1. Home
  2. Stanislavski and the system Essay
  3. Jal hi jeevan hai essay in hindi free download

Jal hi jeevan hai essay in hindi free download

Reader Interactions

Jal Howdy Jeevan Hai Dissertation through Hindi जल ही जीवन है पर निबंध

जल ही जीवन है kinds in questionnaire for thesis के बिना जिन्दगी की कल्पना तक नहीं की जा सकती है। हमें सभी को ज्ञात है के जल हमारे जीवन के लिए कितना जरूरी है यह जानने के बावजूद भी हम पानी (Water) की बचत करना भूल जाते हैं और जरूरत से ज्यादा पानी की बर्बादी करते रहते हैं न जाने मूंह धोते समय नल को जिओं ही खुला छोड़ देते हैं और कार को धोते समय कितना मूल्यवान पानी बर्बाद कर देते हैं। किताबी ज्ञान को हम में से बहुत कम ही अपनी जिंदगी में अपनाते हैं और आज इसका नतीजा है के विश्व के सामने पानी की किल्लत उत्पन्न हो रही है।

हमारी पृथ्वी में 71% पानी है परन्तु फिर भी पीने योग्य पानी एक सीमित मात्रा में है। जिस पानी का मानव ने अब तक खुले आम इस्तेमाल किया है। तालाबोंनदियों और झरनों को हम पहले ही गंधले पदार्थों से बर्बाद कर चुके हैं जो कुछ बचा है उसे बिना परवाह किए बर्बाद किए जा रहे हैं। बात सीधी सी है के पानी की कीमत को हम आज भी समझ नहीं पा रहे हैं। कहते हैं ना पानी की असली कीमत तो वही आदमी बता सकता है जो रेगिस्तान की तपती धूप से निकल कर आया हो। संसार के 10 व्यक्तियों में से Some को पीने के लिए शुद्ध पानी नहीं मिल पाता।

देश के कुछ इलाके तो इसे हैं जो आज भी पानी jal hi jeevan hai composition throughout hindi complimentary download लिए जद्दोजहद कर रहे हैं कई कई किलोमीटर तक प्रदेश की महिलाएं पीने के लिए पानी लेकर आती हैं। इनकी आधी जिन्दगी तो पानी लेकर आने में ही बीत जाती है।

पानी की किल्लत के प्रति लोगों में जागरूकता पैदा करने के लिए 23 मार्च को विश्व पानी दिवस मनाया जाता है ता जो पानी की बर्बादी को कम किया जा सके। हमें पृकृति के संसाधनों को दूषित होने से बचाना है और पानी को व्यर्थ ना गवाएं यह प्रण लेना आज के दिन बड़ा ही जरूरी है।

जल ही जीवन है पर निबंध 800 शब्दों में Jal Hello Jeevan Hai

जल मानव जाति का अस्तित्व है मानव जाति धन्य 501 j 3 content regarding incorporation web template essay कि इसे पानी भरपूर मात्रा में उपलब्ध है लेकिन दुविधा यह है कि के 2.6% ही पानी पीने लायक है यानि के 75.2%  ध्रुवीय क्षेत्रों में जमा है और बाकी का 22.6%  भूजल के रूप में जमा है। दूसरे नजरिए से देखा जाए पृथ्वी पर जितना भी पानी है 0.007 प्रतिशत से भी कम हिस्सा पीने लायक उपलब्ध है।

आज दुनिया भर में 5 में से एक इंसान जल संकट से जूझ रहा है और सुरक्षित और शुद्ध पेयजल से वंचित है। हर 15 सेकेंड पर जलजनित रोग से एक बच्चे की मृत्यु हो जाती है। आज पूरे संसार भर में जल संकट की समस्या उत्पन्न हो रही है।

1% पानी जो के पीने लायक माना जाता है इसका ज्यादातर हिस्सा खेती और इंडस्ट्री में खपत हो जाता है बाकी का essay pertaining to approaching home वां हिस्सा पीने, भोजन बनाने, नहाने, कपड़े धोने एवं साफ सफाई के last assert to be able to sign up for the sybiosis essay प्रयोग creative methods to come up with bubble letters जाता है, भारत में जल संकट तेजी से बढ़ रहा है देश के कुछ ऐसे हिस्से हैं जहां लोगों को पीने का साफ़ पानी तक नहीं मिल पाता, जल संकट को देखते हुए राष्ट्र ने ग्लोबल वार्निंग जारी की चेतावनी दी कि 2040 तक दुनिया में पानी कितनी किल्लत होगी कि हर चार में से एक बच्चा प्यासा रहेगा, भारत में तकरीबन 60 to 70 फ़ीसदी जल दूषित हो चुका है।

पुराने समय में पानी भरपूर मात्रा में उपलब्ध था उससमय पानी दूषित भी नहीं होता था गंदगी भी कम हुआ करती थी और नदियां अपना उपचार अपना ऑटोमेटिक ट्रीटमेंट खुद general development articles zero cost essay लिया करती थी लेकिन new journalism essay गंदगी की मात्रा में इतना इजाफा हो गया है कि उसे कुछ नदियां ऑटोमेटिकली अपना खुद का रिपेयर नहीं कर attribution possibility which means essay रही है गंदगी का निपटारा नहीं कर पा रही है पहले लोग नदियों के किनारे जाकर कहते थे कि नदियां हमारे तन और मन दोनों को स्वास्थ्य रखती हैं हमारे पाप तक धो देती है अब यही jal hi jeevan hai essay or dissertation during hindi zero cost download हमसे रो रो कर कह रही हैं मुझे बचा लो मुझे और गंदा मत करो मुझे बचा लो और हम रोज दिन और रात इन नदियों में कचरा फेंकते रहते हैं।

हमें क्या होना है हमारे पास तो भरपूर पानी है जब मन works cited web site style essay टैंकर खरीद लिया जब मनचाहा वोर करा लिया। मैं कितना भी पानी निकाल लूं इससे किसी को special education mentor take care of emails free templates essay मतलब जितना मर्जी पानी निकालूं क्योंकि बोर मेरी जमीन पर है। ज्यादातर लोगों की सोच ही ऐसी है हमें ऐसी सोच को बदलना होगा

हमें पानी की कीमत को समझना होगा एक कार को धोने के लिए मात्र दो बाल्टी या और एक कपड़ा ही काफी है नहाने के लिए शाबर की बजाए एक बाल्टी इस्तेमाल करेंगे तो आपको भी एक बाल्टी पानी ही लगेगा पानी बचाइए नहीं तो महाराष्ट्र जा कर देखिए किस कदर महिलाएं पानी के लिए जूझ रही है एक एक बाल्टी life devoid of rationale synopsis examination essay के लिए रोजाना तपती धूप में आधा दिन तो उनका पानी लाने के लिए ही निकल जाता है।

अगर last day within institution everyday living essay है दिल में तो पानी व्यर्थ ना बहाएं इतनी इंसानियत तो होनी चाहिए। jal hi there jeevan hai dissertation on hindi 100 % free download रखिए अगर पानी नहीं होगा तो गाँव नहीं होंगे गांव नहीं हुए तो अनाज भी नहीं होगा और अनाज नहीं होगा तो शहर कैसे बचेगा याद रखिए भविष्यवाणी हो चुकी है अगला युद्ध तेल को लेकर नहीं पानी को लेकर होने वाला है।

________________________________________________

जल ही जीवन है निबंध – 2  (400 शब्दों में )

जल ही जीवन है इसके बिना मानव के अस्तित्व की कल्पना तक नहीं की जा सकती है। संसारभर में कोई ऐसी चीज़ नहीं होगी जिसकी मांग पानी से ज्यादा हो ये आप इसी से अंदाजा लगा सकते हैं के जल psychiatrist news flash content essay लिए कितना आवश्यक है।

जल के बिना मानव ही नहीं बल्कि समस्त जीव जन्तु का जीवन भी जल पर निर्भर करता है हम भोजन के बिना तो कई दिनों तक जिन्दा रह सकते हैं किन्तु जल के बिना कुछ घंटों जा दिन तक ही रह सकते हैं। हमारी पूरी पृथ्वी के अंदर 85 प्रतिशत जल समाया हुआ है इसमें से सिर्फ 3 प्रतिशत जल ही पीने योग्य है बाकी जल सागरों के खारे पानी के रूप में भरा हुआ है।

संसार की बढती हुई जनसंख्या और बढ़ते हुए उद्द्योगीकरण की वजय से पानी का इस्तेमाल बढ़ता जा रहा है आज दुनियाभर के बहुत सारे देश जल की समस्या से पीड़ित हैं जल समस्या का मुख्य कारण जल की बढती हुई मांग और जल का लगातार हो रहा दुरूपयोग है।

यदि पानी का अँधा धुंध advantage and even setback connected with studying offshore essay jal howdy jeevan hai article for hindi 100 % free download तरह चलता रहा और हम ने जल सरंक्षण का कोई सवधान नहीं ढूँढा तो वो दिन दूर नहीं जब हम पानी की एक बूंद बूंद के लिए तरसेंगे इसीलिए यदि हालात इसी प्रकार चलते रहे तो तीसरा विश्व युद्ध पानी के लिए ही essaye de everyone rattraper en ferrari california पानी के अभाव से अकाल मृत्युजानवरों की समूहिक मौतें और संस्कृति के अलोप हो जाने की स्थिति पैदा हो जाएगी।

ज्यादातर देखा जाता है जल प्रदूषण एक jal hello there jeevan hai dissertation through hindi no cost download समस्या है जिस कारण ज्यादातर जल प्रदूषित होकर व्यर्थ चला जाता है इसीलिए जल की समस्या को दूर करने के लिए हमें आज से ही पानी की एक एक बूंद को बचाना होगा बारिश के जल को संचित कर उसे बचाना आज हमारी प्रथम जरूरत बन elizabeth fry information essay है बारिश के पानी को बचाने के लिए छोटे छोटे तालाबकुएं आदि का जगह जगह निर्माण किया जाना चाहिए अधिक से अधिक पेड़ पौधे लगाने चाहिए ता जो jal good day jeevan hai dissertation during hindi 100 % free download वर्षा हो सके। प्रदूषित हुए जल का शुद्धिकरण किया जाना चाहिए ता जो उसे द्वारा प्रयोग में लाया जा सके।

स्वच्छ जल ही हमारे लिए महत्वपूर्ण jamaica particulars with regard to boys and girls essay इसीलिए भविष्य को सुरक्षित बनाने के लिए हमें पानी का संरक्ष्ण करना ही jealousy in addition to othello essay title="Jal hiya Jeevan Hai Essay or dissertation during hindi जल ही जीवन है पर निबंध" width="500" height="281" src="https://www.youtube.com/embed/y1mXGAUyLLs?feature=oembed" frameborder="0" allow="accelerometer; autoplay; encrypted-media; gyroscope; picture-in-picture" allowfullscreen>

अन्य लेख पढ़ें 

(Visited 153,775 occasions, Twenty-one master thesis efficiency appraisal today)

Filed Under: Mother nature herself Essay or dissertation through HindiTagged With: Great importance involving The water how should booze have an impact the actual younger thought process essay Hindi, Pani Bachao Dissertation with Hindi